कान से कम सुनाई देना या बहरापन एक बहुत ही आम कान की समस्या है। फिर भी लोग ऑडियोलॉजिस्ट या कान के डॉक्टर के पास जाने में देरी करते हैं। बहरेपन का इलाज करने में देरी बहुत ज्यादा नुकसान पंहुचा सकती है। बच्चों में और कम उम्र में होने वाला बहरापन उनकी शिक्षा को भी प्रभावित कर सकता है। युवाओं में, अनुपचारित बहरेपन से आत्म-सम्मान और नौकरी के अवसरों का नुकसान होता है। काम करने वाले व्यक्तियों में, अनुपचारित बहरापन उनके करियर को नुकसान पहुंचा सकता है। पारिवारिक चर्चा में भाग लेने में असमर्थता वरिष्ठ नागरिकों को अवसाद या डिप्रेशन की और ले जाती है। आइए जानें कि बहरेपन का इलाज कैसे किया जाता है।

 

बहरेपन के प्रकार क्या हैं?

इससे पहले कि हम जाने के बहरेपन का इलाज क्या हैं और उसपर चर्चा करें, हमें बहरेपन के प्रकारों से परिचित होना चाहिए। बहरेपन के 4 प्रकार हैं।

1. संवेदी या सेंसोरिनुरल बहरापन क्या हैं?

इस प्रकार का बहरापन सुनवाई प्रणाली के सेंसरी तंत्रिकाएँ (Sensory Nerves) या कान की नसों से संबंधित है। कान का संवेदी भाग वे अंग हैं जो ध्वनि तरंगों के होने का अहसास करते हैं। श्रवण तंत्रिकाएँ वे नसें हैं जो ध्वनि संकेत को हमारे मस्तिष्क तक ले जाती हैं। कान की कमजोर नसों से या इन भागों को किसी भी प्रकार के नुकसान से संवेदी या सेंसोरिनुरल बहरापन होता है।

बाहरी, मध्य और अंदरुनी कान की संरचना

2. प्रवाहकीय बहरापन क्या हैं?

इस प्रकार का नुकसान कान के उन हिस्सों से संबंधित है जो ध्वनि का संचालन करते हैं। बाहरी कान और मध्य कान प्रवाहकीय प्रणाली का हिस्सा हैं। इस क्षेत्र में किसी भी शारीरिक क्षति या विकृति के कारण प्रवाहकीय बहरापन होता है।

3. मिश्रित बहरापन क्या हैं?

कभी-कभी कुछ लोग संवेदी या सेंसरिनुरल के साथ-साथ प्रवाहकीय बहरेपन से भी पीड़ित होते हैं। संवेदी और प्रवाहकीय श्रवण प्रणाली में एक साथ नुकसान होना मिश्रित बहरेपन का कारण बनता है।

4. अचानक से होने वाला बहरापन क्या हैं?

कुछ लोगों को अचानक से बहरापन भी होता है। अचानक से होने वाले बहरेपन के कुछ कारणों में से एक तेज आवाज के संपर्क में होना है। अचानक विस्फोट या जोरदार धमाका, ओटोटॉक्सिसिटी (Ototoxicity), या कान में संक्रमण से भी अचानक बहरापन हो सकता है। अचानक से होने वाले बहरेपन से प्रभावित लोगों को जल्द से जल्द अस्पताल जाना चाहिए और तुरंत बहरेपन का इलाज करवाना चाहिए। समय पर कान की समस्या का इलाज करवाने से सुनने की शक्ति को बचाया जा सकता है।

बहरेपन का पता कैसे लगाए?

अधिकांश मामलों में कान से कम सुनाई देना या बहरापन उम्र बढ़ने के कारण या तेज आवाज के लगातार संपर्क में रहने के कारण होता है। ध्वनि प्रदूषण से होने वाला बहरापन अचानक नहीं होता है और हमें बहुत धीरे-धीरे प्रभावित करता है।

बहरापन बहुत धीरे-धीरे बढ़ता है। प्रारंभ में, प्रभावित व्यक्ति उसे स्वीकार करने से इनकार करता है। बहरेपन से पीड़ित व्यक्ति दूसरों को दोष देने लगता है ” क्या आप मुंह खोलकर बात नहीं कर सकते?” और “आप स्पष्ट और ज़ोर से क्यों नहीं बोल सकते?” ये कुछ सामान्य शिकायतें हैं जो हम बड़ों से सुनते हैं। आप इन सरल सवालों के जवाब देकर संकेत प्राप्त कर सकते हैं की आपको कान से कम सुनाई देता हैं या नहीं।

ऐसे कई संकेत हैं जो बताते हैं कि व्यक्ति बहरेपन से पीड़ित है। कुछ संकेत इस प्रकार हैं:

कान से कम सुनाई देना या बहरेपन का पता लगाने की कुछ युक्तियां

1. पहला संकेत घर पर या कार्यालय में समूह वार्तालाप में कुछ शब्दों को ठीक से न सुन पाना।

2. रेस्तरां या शोर वाले सार्वजनिक स्थानों जैसी जगहों पर वार्तालाप में कुछ शब्दों को ठीक से न सुन पाना, यह आम है।

3. दूसरों को दोहराने के लिए अनुरोध करना।

4. टेलीविज़न वॉल्यूम को बहुत ज़ोर से रखना।

5. आपको लगता है कि अन्य लोग स्पष्ट नहीं बोल रहे हैं

6. फोन पर ठीक से न सुन पाना

7. अच्छी तरह से सुनने के लिए व्यक्ति की दिशा में देखने की जरूरत है। थोड़ा सा होंठ पढ़ने (Lip reading) से समझने में मदद मिलती है।

8. लंबी बातचीत के बाद व्यक्ति थकावट महसूस करता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि अधिक तनाव के कारण व्यक्ति थक जाता है। व्यक्ति को सुनने के लिए अतिरिक्त प्रयास करना पड़ता है जिससे तनाव बढ़ता है।

9. प्रभावित व्यक्ति सामाजिक कार्यों से बचता है। समूह वार्तालाप में कुछ शब्दों को ठीक से सुनने में असमर्थता के कारण।

बहरापन कान के दर्द, कान का बहना, अवरुद्ध कान या अचानक कान में दबाव के कारण हो सकता है। ये कान रोग के लक्षण अस्थायी बहरेपन के संकेत हैं।

कान की समस्या की पुष्टि।

ओटोस्कोप के साथ कानों की जाँच करना

कृपया ध्यान दें कि उपरोक्त युक्तियां बताती हैं कि व्यक्ति बहरेपन से पीड़ित हो सकता है। आपको ऑडियोलॉजिस्ट या कान के डॉक्टर के साथ अपॉइंटमेंट तय करना चाहिए। ऑडियोलॉजिस्ट ओटोस्कोप (Otoscope) से कानों की जांच करेगा। भौतिक जांच सुनिश्चित करेगी कि कानों में कोई कान का मैल तो नहीं है।

अगला कदम ऑडियोलॉजिकल परीक्षण है। ऑडियोलॉजिस्ट निम्नलिखित में से कोई भी सुनवाई टेस्ट आयोजित कर सकता है।

  • OAE – ओटो ध्वनिक उत्सर्जन परीक्षण या Otoacoustic Emission Test

यह एक त्वरित परीक्षण है जो अंदरुनी कान के बालों की कोशिकाएँ (Hair cells) तक सुनने की शक्ति की जाँच करता है।

  • प्योर टोन ऑडियोमेट्री टेस्ट या Pure Tone Audiometry Test PTA

यह परीक्षण सुनवाई हानि के स्तर या गंभीरता को मापता है।

  • इंपीडेंस परीक्षण – Impedance Test

यह परीक्षण मध्य कान के कामकाज की जाँच करता है

  • ABR या श्रवण मंथन प्रतिक्रिया

यह परीक्षण शिशुओं के लिए है। परीक्षण कानों को प्रस्तुत टोन और क्लिक के दिमाग की प्रतिक्रिया को मापता है।

बहरेपन का इलाज तय करने वाले कारक

कान का डॉक्टर और ऑडियोलॉजिस्ट रिपोर्टों का अध्ययन करेंगे। रिपोर्ट तीव्रता या गंभीरता और बहरेपन के प्रकार को निर्धारित करेगी। बहरेपन का इलाज बहरेपन के प्रकार पर निर्भर करता है |

संवेदी या सेंसोरिनुरल बहरेपन का इलाज क्या हैं?

बढ़ती उम्र और दुर्घटनाएं नसों में कमजोरी या कोक्लीअ में मौजूद नाजुक बालों की कोशिकाएँ को नुकसान पहुंचा सकती हैं। यह संवेदी या सेंसोरिनुरल बहरेपन का एक प्रमुख कारण है। इस प्रकार का बहरापन ज्यादातर स्थायी बहरापन होता है । कान का डॉक्टर विटामिन की खुराक, कॉर्टिकोस्टेरॉइड (Corticosteroids) और ड्रग थेरेपी (Drug Therapy) का सुझाव देते हैं। अब तक, सेंसोरिनुरल बहरेपन का कोई इलाज नहीं मिला है। हेयर सेल पुनर्जनन (Hair cell regeneration) और स्टेम सेल थेरेपी (Stem cell Therapy) पर अनुसंधान एक उन्नत स्तर पर है। हमारे पास बहुत जल्द इसका इलाज होगा।

वर्तमान में, सेंसोरिनुरल बहरेपन के लिए अनुशंसित उपाय कान की मशीन और कॉकलीयर इम्प्लांट का उपयोग है।

क्या प्रवाहकीय बहरेपन का इलाज हैं?

अधिकांश मामलों में प्रवाहकीय बहरेपन का इलाज उपलब्ध है। जब तक बाहरी कान या मध्य की क्षति गंभीर नहीं होती।

प्रवाहकीय बहरेपन के कारण क्या हैं?

निम्नलिखित कारणों से प्रवाहकीय बहरापन हो सकता है।

  • कान का मैल संचय

कान की सफाई से स्थिति ठीक हो सकती है। घर पर कान का मैल कैसे साफ करें, यह पता करें।

  • बाहरी वस्तु बाधा

बच्चों के मामले में ऐसा होता है। कई बार वे कानों में मोती या छोटे-छोटे खिलौने डालते हैं। उन्हें हटाने से बहरापन ठीक हो सकता है।

  • कान में संक्रमण

कान में संक्रमण जीवाणु (Bacterial) या कवक (Fungal) के कारण हो सकता है। कान में संक्रमण से बचाव के लिए अपने कानों को साफ रखें। डॉक्टर से परामर्श करें जो कान में संक्रमण को साफ करने के लिए दवा लिखेंगे।

  • कान में असामान्य हड्डी वृद्धि

कभी-कभी कान में हड्डी की असामान्य वृद्धि होती है। यह वृद्धि कान नहर के आकार को कम करती है। समस्या को शल्य चिकित्सा या सर्जरी द्वारा ठीक किया जा सकता है।

  • कान के परदे में छेद

मध्य कान में दबाव के निर्माण के कारण या बाहरी चोट के कारण कान का परदा फट सकता है। कान का परदा शल्य चिकित्सा या सर्जरी द्वारा ठीक किया जा सकता है।

मिश्रित बहरेपन का इलाज क्या हैं?

मिश्रित सुनवाई हानि सेंसोरिनुरल  और प्रवाहकीय बहरेपन का एक संयोजन है। आम तौर पर कान का डॉक्टर पहले प्रवाहकीय बहरेपन के साथ शुरुआत करेंगे। इससे कान के रोग से कुछ राहत मिलेगी।

वर्तमान में उपलब्ध सेंसोरिनुरल बहरेपन का इलाज को ठीक नहीं किया जा सकता हैं। फील्ड परीक्षण (Field trials) एक उन्नत स्तर पर हैं और एक इलाज बहुत जल्द उपलब्ध होगा।

 

%d bloggers like this: